कक्षा 8 विज्ञान – Bihar Board Class 8th Science Chapter 11 Notes – प्रकाश का खेल

प्रकाश एक प्रकार की ऊर्जा है जो हमें देखने की क्षमता प्रदान करती है। यह विद्युत चुंबकीय तरंगों का एक हिस्सा है जो हमें वस्तुओं को देखने में मदद करता है। प्रकाश के मुख्य स्रोत सूर्य, बल्ब, मोमबत्ती, और टॉर्च आदि हैं। सूर्य प्राकृतिक प्रकाश का सबसे बड़ा स्रोत है, जबकि बल्ब और मोमबत्ती जैसे उपकरण मानव निर्मित हैं।

Bihar Board Class 8th Science Chapter 11 Notes – प्रकाश का खेल

प्रकाश का उत्पादन विभिन्न प्रकार की प्रक्रियाओं से होता है। सूर्य में, यह परमाणु संलयन की प्रक्रिया के माध्यम से उत्पन्न होता है, जहां हाइड्रोजन परमाणु हीलियम में बदलते हैं और बड़ी मात्रा में ऊर्जा उत्पन्न होती है। बिजली के बल्ब में, विद्युत ऊर्जा ताप और प्रकाश ऊर्जा में परिवर्तित होती है।

प्रकाश की किरणें और उनका व्यवहार

प्रकाश किरणें सीधी रेखा में चलती हैं। जब ये किरणें किसी वस्तु से टकराती हैं तो उनका व्यवहार बदल जाता है। प्रकाश की किरणों के मुख्य तीन प्रकार के व्यवहार होते हैं:

  • परावर्तन (Reflection): जब प्रकाश की किरणें एक सतह से टकराकर वापस लौटती हैं।
  • अपवर्तन (Refraction): जब प्रकाश की किरणें एक माध्यम से दूसरे माध्यम में जाती हैं और उनकी दिशा बदल जाती है।
  • विचलन (Diffraction): जब प्रकाश की किरणें एक संकीर्ण उद्घाटन से गुजरती हैं और फैल जाती हैं।

परावर्तन (Reflection) और अपवर्तन (Refraction)

परावर्तन (Reflection): परावर्तन वह प्रक्रिया है जिसमें प्रकाश की किरणें एक सतह से टकराकर वापस लौटती हैं। यह घटना हमें दर्पण में अपना प्रतिबिंब देखने की अनुमति देती है।

परावर्तन के दो मुख्य नियम हैं:

  • आपतन कोण (angle of incidence) और परावर्तन कोण (angle of reflection) बराबर होते हैं।
  • आपतन किरण, परावर्तित किरण, और आपतन बिंदु पर खींची गई अभिलम्ब एक ही समतल में होती हैं।
  • दर्पण का सबसे सामान्य उदाहरण समतल दर्पण है, जिसमें परावर्तन के ये नियम स्पष्ट रूप से देखे जा सकते हैं। इस परावर्तन के कारण ही हमें दर्पण में अपनी साफ और स्पष्ट छवि दिखाई देती है।

अपवर्तन (Refraction): अपवर्तन वह प्रक्रिया है जिसमें प्रकाश की किरणें एक माध्यम से दूसरे माध्यम में जाती हैं और उनकी दिशा बदल जाती है। यह घटना तब होती है जब प्रकाश की गति विभिन्न माध्यमों में अलग-अलग होती है।

अपवर्तन के नियम निम्नलिखित हैं:

  • आपतन किरण, अपवर्तित किरण, और अभिलम्ब एक ही समतल में होती हैं।
  • आपतन कोण और अपवर्तन कोण का अनुपात स्थिर होता है जिसे अपवर्तनांक (refractive index) कहते हैं।
  • जब प्रकाश वायु से जल में प्रवेश करता है, तो वह धीमा हो जाता है और उसकी दिशा बदल जाती है। इस प्रकार का अपवर्तन हमें तैरते हुए तिनके का बिखराव और पानी में डूबा हुआ वस्तु का विकृत चित्र देखने में सक्षम बनाता है।

प्रकाश का रंग और वर्णक्रम

प्रकाश का रंग उसकी तरंग दैर्ध्य पर निर्भर करता है। सफेद प्रकाश में सभी रंग शामिल होते हैं जिन्हें हम वर्णक्रम (spectrum) कहते हैं। न्यूटन का प्रिज्म प्रयोग यह दर्शाता है कि सफेद प्रकाश विभिन्न रंगों में विभाजित किया जा सकता है। यह रंग हैं लाल, नारंगी, पीला, हरा, नीला, और बैंगनी। इन रंगों का क्रम उनकी तरंग दैर्ध्य के अनुसार होता है।

प्रिज्म का प्रयोग हमें यह समझने में मदद करता है कि सफेद प्रकाश वास्तव में विभिन्न तरंग दैर्ध्यों के रंगों का मिश्रण है। जब प्रकाश प्रिज्म के माध्यम से गुजरता है, तो विभिन्न तरंग दैर्ध्य अलग-अलग कोणों पर अपवर्तित होते हैं, जिससे रंगों का बिखराव होता है।

दृष्टि का कार्य और प्रकाश का मानव नेत्र से संबंध

मनुष्य की आँख एक जटिल प्रणाली है जो प्रकाश को समझकर दृष्टि उत्पन्न करती है। नेत्र की मुख्य संरचनाएं और उनका कार्य निम्नलिखित हैं:

  • कॉर्निया (Cornea): यह आँख का बाहरी हिस्सा होता है जो प्रकाश को नेत्र में प्रवेश करने देता है।
  • लेंस (Lens): यह प्रकाश को समुचित दिशा में मोड़ता है ताकि साफ चित्र बन सके।
  • रेटिना (Retina): यह आँख के अंदर की परत होती है जो प्रकाश को विद्युत संकेतों में परिवर्तित करती है।
  • ऑप्टिक नर्व (Optic Nerve): यह संकेतों को मस्तिष्क तक पहुँचाती है जहाँ चित्र का निर्माण होता है।

आँख का कार्य करना इस प्रकार है कि जब प्रकाश किसी वस्तु से टकराकर आँख में प्रवेश करता है, तो वह कॉर्निया और लेंस से होकर गुजरता है और रेटिना पर चित्र बनाता है। रेटिना में उपस्थित कोशिकाएं इस चित्र को विद्युत संकेतों में बदलकर मस्तिष्क तक भेजती हैं, जहाँ हमें वस्तु का वास्तविक दृश्य मिलता है।

लेंस और उनका उपयोग:- लेंस पारदर्शी पदार्थ के बने होते हैं और वे प्रकाश की किरणों को मोड़ते हैं। लेंस के दो मुख्य प्रकार होते हैं:

  • अवतल लेंस (Concave Lens): यह पतला होता है और प्रकाश की किरणों को फैलाता है।
  • उत्तल लेंस (Convex Lens): यह मोटा होता है और प्रकाश की किरणों को समाहित करता है।अवतल लेंस का उपयोग

चश्मों में उन लोगों के लिए किया जाता है जिन्हें दूर की वस्तुएं देखने में समस्या होती है। दूसरी ओर, उत्तल लेंस का उपयोग दूरबीन, माइक्रोस्कोप, और कैमरों में किया जाता है ताकि वस्तुओं का बड़ा और स्पष्ट चित्र प्राप्त किया जा सके।

प्रकाश के दैनिक जीवन में उपयोग:- प्रकाश हमारे जीवन के विभिन्न पहलुओं में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। इसके कुछ प्रमुख उपयोग निम्नलिखित हैं:

  • दृष्टि: हम प्रकाश की मदद से वस्तुओं को देख सकते हैं।
  • संचार: फाइबर ऑप्टिक केबल्स में प्रकाश का उपयोग डेटा ट्रांसमिशन के लिए होता है।
  • चिकित्सा: लेजर तकनीक में प्रकाश का उपयोग सर्जरी और निदान के लिए होता है।
  • फोटोग्राफी: कैमरा और अन्य उपकरणों में प्रकाश का उपयोग चित्र लेने के लिए होता है।
  • सौर ऊर्जा: सौर पैनलों के माध्यम से सूर्य की प्रकाश ऊर्जा को विद्युत ऊर्जा में परिवर्तित किया जाता है।

संचार के क्षेत्र में, फाइबर ऑप्टिक तकनीक ने क्रांति ला दी है। इसमें, प्रकाश का उपयोग अत्यधिक तेज गति से डेटा ट्रांसमिशन के लिए किया जाता है, जिससे इंटरनेट और टेलीफोन सेवाएं अत्यधिक प्रभावी हो जाती हैं। चिकित्सा क्षेत्र में, लेजर सर्जरी ने विभिन्न प्रकार की जटिल सर्जरी को सरल और सटीक बना दिया है।

निष्कर्ष

प्रकाश का खेल विज्ञान का एक रोचक और महत्वपूर्ण हिस्सा है। इस अध्याय में हमने देखा कि कैसे प्रकाश हमारे जीवन के विभिन्न पहलुओं में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। परावर्तन, अपवर्तन, लेंस का उपयोग, और मानव दृष्टि में प्रकाश का महत्व इस अध्याय के प्रमुख विषय हैं। यह अध्याय छात्रों को प्रकाश की विभिन्न घटनाओं और उनके दैनिक जीवन में उपयोग को समझने में मदद करेगा।

कक्षा 8वीं के इस पाठ में छात्रों ने जाना कि प्रकाश केवल एक साधारण ऊर्जा नहीं है, बल्कि यह विभिन्न घटनाओं और प्रक्रियाओं का मिश्रण है जो हमारे जीवन को कई तरीकों से प्रभावित करती है। इस प्रकार, “प्रकाश का खेल” हमें विज्ञान के इस महत्वपूर्ण क्षेत्र की गहरी समझ प्रदान करता है।

bihar board class 8 science notes समाधान हिंदी में

क्र० स ० अध्याय का नाम
1.दहन एवं ज्वाला चीजों का जलना
2.तड़ित एवं भूकम्प : प्रकुति के दो भयानक रूप
3.फसल : उत्पादन एवं प्रबंधन
4.कपड़े / रेशे तरह-तरह के
5.बल से ज़ोर आजमाइश
6.घर्षण के कारण
7.सूक्ष्मजीवों का संसार
8.दाब एवं बल का आपसी सम्बन्ध
9.इंधन : हमारी जरुरत
10.विद्युत धारा के रासायनिक प्रभाव
11.प्रकाश का खेल
12पौधों एवं जन्तुओं का संरक्षण : (जैव विविधता)
13.तारे और सूर्य का परिवार
14.कोशिकाएँ : हर जीव की आधारभूत संरचना
15.जन्तुओं में प्रजनन
16.धातु एवं अधातु
17.किशोरावस्था की ओर
18ध्वनियाँ तरह-तरह की
19.वायु एवं जल-प्रदूषण की समस्या

Leave a Comment