जन्तुओं में प्रजनन – Bihar board class 8 science chapter 15 notes

Bihar board class 8 science chapter 15 notes – प्रजनन एक जैविक प्रक्रिया है जिसके माध्यम से जीव अपने जैसे नए जीव उत्पन्न करते हैं। यह प्रक्रिया प्रजातियों के अस्तित्व और निरंतरता के लिए आवश्यक है। Bihar board class 8 science जन्तुओं में प्रजनन इस महत्वपूर्ण प्रक्रिया पर विस्तृत चर्चा करता है।

Bihar board class 8 science chapter 15 notes

जन्तुओं में प्रजनन एक जटिल और महत्वपूर्ण प्रक्रिया है जो जीवन की निरंतरता और प्रजातियों के अस्तित्व को सुनिश्चित करती है। इसमें अलैंगिक और लैंगिक दोनों प्रकार के प्रजनन शामिल होते हैं, जो जीवों को अपनी जनसंख्या बनाए रखने में मदद करते हैं। प्रजनन के विभिन्न प्रकार और उनके उदाहरण हमें इस प्रक्रिया की विविधता और जटिलता को समझने में मदद करते हैं।

जन्तुओं में प्रजनन – Bihar board class 8 science chapter 15 notes

प्रजनन का महत्व:- प्रजनन जीवन की एक महत्वपूर्ण प्रक्रिया है जो जन्तुओं को अपनी प्रजाति को बनाए रखने और उनके लक्षणों को आगे बढ़ाने में मदद करती है। यह आनुवंशिक विविधता को बढ़ावा देता है और जीवों को बदलते पर्यावरणीय परिस्थितियों में अनुकूल होने की क्षमता प्रदान करता है।

जन्तुओं में प्रजनन के प्रकार

जन्तुओं में प्रजनन मुख्य रूप से दो प्रकार का होता है: अलैंगिक प्रजनन और लैंगिक प्रजनन।

  • अलैंगिक प्रजनन :- अलैंगिक प्रजनन वह प्रक्रिया है जिसमें एक ही जन्तु नए जन्तु उत्पन्न करता है। इसमें केवल एक जन्तु का ही योगदान होता है और नए जन्तु में माता-पिता के समान ही अनुवांशिक पदार्थ होता है।
  • अलैंगिक प्रजनन के प्रकार:- विभाजन (Binary Fission): यह प्रजनन का सबसे सरल रूप है, जो प्रोकैरियोटिक जीवों में होता है। इसमें एक जन्तु दो समान भागों में विभाजित हो जाता है। उदाहरण: अमीबा, परमीशियम।
  • कलीकरण (Budding): इसमें जन्तु के शरीर पर एक छोटी सी कली निकलती है, जो बढ़कर नए जन्तु का रूप ले लेती है। उदाहरण: हाइड्रा, यीस्ट।
  • स्पोर गठन (Spore Formation): कुछ जन्तु बीजाणुओं (spores) का निर्माण करते हैं, जो अनुकूल परिस्थितियों में नए जन्तु में बदल जाते हैं। उदाहरण: फंफूद, पेनिसिलियम।
  • खंडन (Fragmentation): इसमें जन्तु का शरीर खंडों में टूट जाता है और प्रत्येक खंड एक नए जन्तु का रूप ले लेता है। उदाहरण: स्पाइरोगायरा, प्लानारिया।

लैंगिक प्रजनन :- लैंगिक प्रजनन में दो माता-पिता का योगदान होता है, जिनमें नर और मादा जन्तु शामिल होते हैं। इसमें नर और मादा जन्तु के जनन कोशिकाएँ (गैमेट्स) मिलकर एक नया जन्तु उत्पन्न करते हैं।

लैंगिक प्रजनन के चरण:

  • गैमेट निर्माण (Gamete Formation): नर और मादा जन्तु अपने जनन अंगों में जनन कोशिकाएँ (स्पर्म और एग) बनाते हैं।
  • निषेचन (Fertilization): नर और मादा जनन कोशिकाएँ मिलकर युग्मज (zygote) बनाते हैं। निषेचन आंतरिक (internal) या बाह्य (external) हो सकता है।
  • विकास (Development): युग्मज विभाजित होकर भ्रूण (embryo) बनाता है, जो विकसित होकर नया जन्तु बनता है।

जन्तुओं में लैंगिक प्रजनन के उदाहरण

मछलियों में प्रजनन

  • मछलियों में अधिकांशतः बाह्य निषेचन होता है। मादा मछली पानी में अंडे देती है और नर मछली उन अंडों पर स्पर्म छोड़ता है। निषेचित अंडे पानी में ही विकसित होकर नई मछलियों में बदलते हैं।
  • उभयचरों में प्रजनन:- मेंढ़क और अन्य उभयचरों में भी बाह्य निषेचन होता है। मादा उभयचर पानी में अंडे देती है और नर उन पर स्पर्म छोड़ता है। निषेचित अंडे विकसित होकर टैडपोल (tadpole) बनते हैं, जो धीरे-धीरे वयस्क मेंढ़क में बदलते हैं।
  • सरीसृपों में प्रजनन:- सरीसृपों में आंतरिक निषेचन होता है। मादा सरीसृप अंडे देती है, जिनमें भ्रूण विकसित होता है। अंडे फूटने पर छोटे सरीसृप निकलते हैं। कुछ सरीसृपों में अंडे देने के बजाय सीधे बच्चे जन्म देते हैं।
  • पक्षियों में प्रजनन:- पक्षियों में भी आंतरिक निषेचन होता है। मादा पक्षी अंडे देती है और उन पर बैठकर ऊष्मा देती है, जिससे अंडों में भ्रूण का विकास होता है। अंडे फूटने पर चूजे निकलते हैं, जिन्हें मादा पक्षी खाना खिलाती है।
  • स्तनधारियों में प्रजनन:- स्तनधारियों में आंतरिक निषेचन होता है। मादा जन्तु भ्रूण को गर्भ में विकसित करती है और जन्म के बाद बच्चे को दूध पिलाकर पोषण देती है।

जन्तुओं में प्रजनन के लिए अनुकूलन:- जन्तुओं ने प्रजनन के लिए विभिन्न प्रकार के अनुकूलन विकसित किए हैं जो उन्हें प्रजनन में मदद करते हैं:

संरचनात्मक अनुकूलन

  • जनन अंगों का विकास: जन्तुओं में विशेष जनन अंग होते हैं जो प्रजनन के लिए आवश्यक होते हैं।
  • सुरक्षात्मक आवरण: अंडों के चारों ओर सुरक्षात्मक आवरण होते हैं जो उन्हें बाहरी खतरों से बचाते हैं।

व्यवहारिक अनुकूलन

  • संवेदनशीलता: जन्तु विभिन्न संवेदनाओं के माध्यम से अपने साथी को पहचानते हैं।
  • नृत्य और ध्वनि: कुछ जन्तु प्रजनन के समय नृत्य या ध्वनि का प्रयोग करते हैं।
  • घोंसला बनाना: पक्षी और अन्य जन्तु अपने अंडों और बच्चों की सुरक्षा के लिए घोंसला बनाते हैं।

शारीरिक अनुकूलन

  • उष्मा संरक्षण: पक्षी अंडों को गर्म रखने के लिए उन पर बैठते हैं।
  • दूध उत्पादन: स्तनधारी मादा अपने बच्चों के पोषण के लिए दूध का उत्पादन करती है।

मानवों में प्रजनन:- मानवों में लैंगिक प्रजनन होता है और यह प्रक्रिया जटिल होती है। इसमें नर और मादा दोनों के जनन तंत्र शामिल होते हैं।

नर जनन तंत्र:- नर जनन तंत्र में प्रमुख अंगों में वृषण (testes), शुक्रवाहिनी (sperm duct), और लिंग (penis) शामिल हैं। वृषण स्पर्म का निर्माण करते हैं, जो शुक्रवाहिनी के माध्यम से लिंग तक पहुँचते हैं।

मादा जनन तंत्र:- मादा जनन तंत्र में प्रमुख अंगों में अंडाशय (ovaries), फैलोपियन ट्यूब (fallopian tubes), गर्भाशय (uterus), और योनि (vagina) शामिल हैं। अंडाशय अंडाणु का निर्माण करते हैं, जो फैलोपियन ट्यूब के माध्यम से गर्भाशय तक पहुँचते हैं।

मानव प्रजनन की प्रक्रिया

  • गैमेट निर्माण: वृषण में स्पर्म और अंडाशय में अंडाणु का निर्माण होता है।
  • निषेचन: संभोग के दौरान स्पर्म और अंडाणु का मिलन होता है, जिससे युग्मज बनता है।
  • भ्रूण विकास: युग्मज गर्भाशय में विकसित होकर भ्रूण का रूप लेता है।
  • जन्म: भ्रूण गर्भ में नौ महीने तक विकसित होता है और फिर जन्म के माध्यम से बाहर आता है।

प्रजनन स्वास्थ्य:- प्रजनन स्वास्थ्य जन्तुओं के लिए अत्यंत महत्वपूर्ण है। यह प्रजनन क्षमता, गर्भधारण, और संतानोत्पत्ति के स्वास्थ्य को सुनिश्चित करता है।

प्रजनन स्वास्थ्य के उपाय

  • स्वस्थ आहार: संतुलित आहार और पोषक तत्वों का सेवन प्रजनन स्वास्थ्य के लिए आवश्यक है।
  • स्वच्छता: जनन अंगों की स्वच्छता और स्वास्थ्य का ध्यान रखना आवश्यक है।
  • व्यायाम: नियमित व्यायाम शारीरिक स्वास्थ्य को बनाए रखता है और प्रजनन क्षमता को बढ़ाता है।
  • चिकित्सकीय जांच: समय-समय पर चिकित्सा जांच और परामर्श लेना प्रजनन स्वास्थ्य के लिए महत्वपूर्ण है।

निष्कर्ष

इस लेख में, हमने कक्षा 8वीं के विज्ञान जन्तुओं में प्रजनन – Bihar board class 8 science chapter 15 notes के विभिन्न पहलुओं पर विस्तार से चर्चा की है, जो छात्रों को इस महत्वपूर्ण विषय को गहराई से समझने में मदद करेगा। प्रजनन जीवन का एक अनिवार्य हिस्सा है और इसका अध्ययन हमें जीवन की जटिलताओं को समझने में मदद करता है।

Leave a Comment