प्रकाश : परावर्तन एवं अपवर्तन – Bihar Board Class 10th Physics Chapter 1 Notes

हमारे प्रिय पाठक हमारे विशेषज्ञों ने आपके लिए “ प्रकाश : परावर्तन एवं अपवर्तन – Bihar Board Class 10th Physics Chapter 1 Notes उपलब्ध कराया है जो आपके बोर्ड परीक्षा के लिए महत्वपूर्ण साबित होगा |

bihar board class 10 Science Chapter 9 Bihar Board Class 10th Physics Chapter 1 Notes

प्रकाश के परावर्तन (Reflection) और अपवर्तन (Refraction) भौतिकी के दो महत्वपूर्ण विषय हैं जो हमें प्रकाश की प्रकृति और उसके व्यवहार को समझने में मदद करते हैं। ये दोनों घटनाएं प्रकाश की किरणों के माध्यम से होती हैं और विभिन्न सतहों और माध्यमों से गुजरने पर प्रकाश की दिशा में परिवर्तन लाती हैं।

Bihar Board Class 10th Physics Chapter 1 Notes – प्रकाश : परावर्तन एवं अपवर्तन

परावर्तन (Reflection) :- परावर्तन वह प्रक्रिया है जिसमें प्रकाश की किरणें किसी सतह से टकराकर वापस लौट जाती हैं। इसका पालन दो मुख्य नियमों द्वारा किया जाता है:

  • परावर्तन का प्रथम नियम: आपतित किरण (Incident Ray), परावर्तित किरण (Reflected Ray), और अभिलंब (Normal) एक ही तल में होते हैं।
  • परावर्तन का द्वितीय नियम: आपतित कोण (Angle of Incidence) और परावर्तन कोण (Angle of Reflection) बराबर होते हैं।


परावर्तन के प्रकार:- नियमित परावर्तन (Regular Reflection): यह तब होता है जब प्रकाश की किरणें एक समतल और चमकीली सतह से परावर्तित होती हैं।

  • अनियमित परावर्तन (Irregular Reflection): यह तब होता है जब प्रकाश की किरणें एक असमतल सतह से परावर्तित होती हैं, जिससे किरणें विभिन्न दिशाओं में बिखर जाती हैं।

अपवर्तन (Refraction):- अपवर्तन वह प्रक्रिया है जिसमें प्रकाश की किरणें एक माध्यम से दूसरे माध्यम में प्रवेश करते समय अपनी दिशा बदलती हैं। इसका मुख्य कारण माध्यमों की विभिन्न ऑप्टिकल घनत्व (Optical Density) होती है।

अपवर्तन के नियम

  • अपवर्तन का प्रथम नियम: आपतित किरण, अपवर्तित किरण (Refracted Ray), और अभिलंब एक ही तल में होते हैं।
  • अपवर्तन का द्वितीय नियम (स्नेल का नियम – Snell’s Law): विभिन्न माध्यमों के बीच अपवर्तन की स्थिति में आपतित कोण (i) और अपवर्तन कोण (r) का साइन अनुपात माध्यमों के अपवर्तनांक (Refractive Index) के अनुपात के बराबर होता है।

Sini/Sinr = n2/n1

क्रमशः पहले और दूसरे माध्यम के अपवर्तनांक हैं।

अपवर्तन का महत्व

  • लेंस (Lens) की क्रिया: लेंस का काम प्रकाश की किरणों को अपवर्तित करके छवि बनाना होता है।
  • प्रिज्म (Prism): प्रिज्म द्वारा प्रकाश का विखंडन (Dispersion) अपवर्तन के कारण होता है।
  • दृश्य भृम (Optical Illusions): अपवर्तन के कारण पानी में वस्तुएं अपनी वास्तविक स्थिति से भिन्न दिखाई देती हैं।

प्रयोग और दैनिक जीवन में अनुप्रयोग

  • दर्पण: समतल, उत्तल, और अवतल दर्पणों में परावर्तन का प्रयोग होता है।
  • चश्मा और संपर्क लेंस: अपवर्तन के सिद्धांतों का उपयोग कर बनाए जाते हैं।
  • प्रकाशीय उपकरण: माइक्रोस्कोप, टेलीस्कोप, और कैमरा जैसे उपकरणों में परावर्तन और अपवर्तन का उपयोग होता है।

निष्कर्ष

प्रकाश के परावर्तन और अपवर्तन हमारे दैनिक जीवन में विभिन्न उपकरणों और प्राकृतिक घटनाओं को समझने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। इन सिद्धांतों का गहन अध्ययन हमें भौतिकी के अन्य महत्वपूर्ण विषयों में भी सहायता प्रदान करता है।

ये नोट्स बिहार बोर्ड के विज्ञान छात्रों के लिए विशेष रूप से तैयार किए गए हैं, ताकि वे प्रकाश के परावर्तन और अपवर्तन को आसानी से समझ सकें और परीक्षा में अच्छे अंक प्राप्त कर सकें।

Leave a Comment